Farmers Protest: बारिश से प्रदर्शनकारी किसानों के तंबुओं में पानी भरा, कड़ाके की ठंड में कंबल भी हुए गीले

नयीदिल्लीकेंद्रकेनयेकृषिकानूनोंकेखिलाफदिल्लीकीसीमाओंपरपिछलेएकमहीनेसेभीअधिकसमयसेडेराडालेप्रदर्शनकारीकिसानोंकीमुश्किलेंरातभरहुईबारिशनेरविवारसुबहऔरबढ़ादी।बारिशसेउनकेतंबुओंमेंपानीभरगया।उनकेकंबलभीगगयेतथाईंधनएवंअलावकेलिएरखीगईलकड़ियांभीगीलीहोगई।प्रदर्शनकारियोंकेमुताबिकलगातारहुईबारिशकेचलतेआंदोलनस्थलोंपरजलभरावहोगयाऔर‘वाटरप्रूफ’तंबुओंसेभीउन्हेंज्यादामददनहींमिली।तंबुओंसेनहींहोपारीरक्षासंयुक्तकिसानमोर्चाकेसदस्यएवंकिसाननेताअभिमन्युकोहाड़नेरविवारकोकहाकिकिसानजिनतंबुओंमेंरहरहेहैं,वेवाटरप्रूफहैंलेकिनयेहाड़कंपादेनेवालीठंडऔरजलभरावसेउनकीरक्षानहींकरसकते।उन्होंनेकहा,‘बारिशकीवजहसेप्रदर्शनस्थलोंपरहालातबहुतखराबहैं,यहांजलभरावहोगयाहै।बारिशकेबादठिठुरनबहुतबढ़गईहै,लेकिनसरकारकोकिसानोंकीपीड़ानजरनहींआरही।’सिंघूबॉर्डरपरडेराडालेकिसानगुरविंदरसिंहनेकहाकिकुछस्थानोंपरपानीभरगयाहैक्योंकिवहांजलनिकासीकीसमुचितव्यवस्थानहींहैं।हालांकिउन्होंनेजोरदेतेहुएकहा,‘मौसमकिसानोंकेहौसलेकोपस्तनहींकरसकता,जोएकमहीनेसेअधिकसमयसेप्रदर्शनकररहेहैं।’’उन्होंनेकहा,‘‘कईसमस्याओंकेबावजूदभीहमयहांसेतबतकनहींहिलनेवालेहैं,जबतककिहमारीमांगेंपूरीनहींहोजातीहैं।’दिल्लीमेंकड़ाकेकीढंडमौसमविभागकेअनुसारदिल्लीकेकईइलाकोंमेंभारीबारिशहुईतथाबादलछाएरहनेऔरपूरबाहवाबहनेकेचलतेन्यूनतमतापमानमेंवृद्धिहुईहै।विभागकेएकअधिकारीनेकहा,‘‘सफदरजंगवेधशालामेंन्यूनतमतापमान9.9डिग्रीसेल्सियसतथा25मिमीबारिशदर्जकीगई।पालमवेधशालामेंन्यूनतमतापमान11.4डिग्रीतथा18मिमीबारिशदर्जकीगई।छहजनवरीतकबारिशकेसाथओलेगिरनेकाअनुमानहै।’’पंजाबऔरहरियाणाकेकिसानोंसमेतहजारोंकीसंख्यामेंकिसानकेंद्रकेतीननएकृषिकानूनोंकेखिलाफदिल्लीकेसिंघू,टिकरीऔरगाजीपुरबार्डरपरएकमहीनेसेभीअधिकसमयसेडटेहुएहैं।भारतीयकिसानयूनियन(उग्राहण)केनेतासुखदेवसिंहकेनेतृत्वमेंकिसानटिकरीबॉर्डरपरप्रदर्शनकररहेहैं।उन्होंनेकहाकिकिसानोंनेठंडसेबचनेकेलिएजोइंतजामकिएहैं,वेबारिशऔरउसकेबादहोनेवालेजलभरावकेकारणज्यादामददगारसाबितनहींहोरहे।एकअन्यप्रदर्शनकारीकिसानवीरपालसिंहनेकहाकिउनकेकंबल,कपड़े,लकड़ियांआदिभीगगएहैं।KisanAandolan:शाहजहांपुरबॉर्डरसेहरियाणामेंघुसेकिसानोंपरपुलिसनेकियालाठीचार्ज,दागेआंसूगैसकेगोलेकिसाननहींबनापारहेखानाउन्होंनेबताया,‘बारिशकेकारणहुएजलजमावकेचलतेहमारेकपड़ेभीगगए।खानाबनानेमेंभीपरेशानीआरहीहैक्योंकिईंधनकीलकड़ीभीगगईहै।हमारेपासएलपीजी(रसोईगैस)सिलेंडरहैलेकिनयहांहरकिसीकेपासयहनहींहै।’गाजीपुरबार्डरपरप्रदर्शनकररहेकिसानोंमेंशामिलधर्मवीरयादवनेकहा,‘चाहेभारीबारिशहोयातूफानहीक्योंनआजाए,हमकिसीभीपरेशानीकासामनाकरनेकोतैयारहैंलेकिनजबतकमांगेंपूरीनहींहोती,हमइसस्थानसेनहींहटेंगे।’बुराड़ीस्थितमैदानमेंभीशिविरोंमेंपानीभरगयाऔरप्रदर्शनकारीवहांसेपानीनिकालनेऔरअपनेसामानकोभीगनेसेबचानेकेलिएजद्दोजहदकरतेनजरआए।'बारिशकिसानोंकासाहसकमनहींकरपाएगी'किसानमजदूरसंघर्षसमितिपंजाबकेसंयुक्तसचिवसुखविंदरसिंहनेकहा,‘इसवक्तहमगेहूंकीबुवाईकियाकरतेहैं।पंजाबमेंहमरातमेंऔरसुबहकेवक्तखेतोंमेंकामकरतेहैं,जहांतापमानयहांकीतुलनामेंभीकमहै।यह(बारिश)किसानोंकेसाहसकोनहींकरपाएगी।’’वहीं,कुछकिसानोंनेबारिशकीसंभावनाकोध्यानमेंरखतेहुएसमुचिततैयारियांभीकररखीथी।पंजाबकेपटियालाजिलेकेगुरमेलसिंहनेकहा,‘बारिशसेहमेंकोईफर्कनहींपड़ता।हमनेअपनीट्रैक्टरट्रालियोंकोपूरीतरहसेढंकदियाहै।’पूरीतरहसुरक्षितहैअनाजहरियाणाकेअंबालाजिलानिवासीअवतारसिंहनेकहा,‘हमनेबारिशकोध्यानमेंरखतेहुएअपनीतैयारियांकीथीं।अनाजपूरीतरहसेसुरक्षितहैऔरतंबूकेअंदरहै।लेकिनबारिशसेकीचड़होगयाहैजिसकारणलोगोंकोइधर-उधरजानेमेंदिक्कतहोरहीहै।हमइलाकेकोसाफकररहेहैंऔरजलनिकासीकेलिएकोशिशकररहेहैं।’