सुशील मोदी की ट्वीट में है कितनी सच्चाई, क्या फिर से होगा लालू का ठिकाना होटवार; जानें पूरा मामला

रांची, राज्यब्यूरो।राजदसुप्रीमोलालूप्रसादयादवकेमुलायमयादवसेमिलनेपरराजनीतिकहलचलबढ़गईहै।फिलहालयहसंभावनाजताईजारहीहैकिइसकोदेखतेहुएसीबीआइलालूकीजमानतरदकरानेकेलिएआवेदनदेसकतीहै।अगरऐसाहुआ तोक्याझारखंडहाईकोर्टसेजमानतपरबाहरलालूयादवएकबारफिरझारखंडकीजेलमेंहोसकतेहैं,लोगोंकेमनमेंयेसवालउठनेलगेहैं।लेकिनसुशीलमोदीकेट्वीटमेंकितनीसच्चाईहैऔरक्यालालूजेलजासकतेहैं?

दरअसल,सुशीलमोदीनेसोमवारकोट्वीटकरकहाकिलालूप्रसादकायूपीमेंनकोईजनाधारहै,नकभीवहांउनकीपार्टीकेदो-चारउम्मीदवारविधायकबनपाए,लेकिनवेमुलायमसिंहयादवऔरअखिलेशयादवसेमिलकरकेवलमीडियामेंबनेरहनेकीकोशिशकररहेहैं।चाराघोटालाकेचारमामलोंमेंसजायाफ्तालालूप्रसादकोगंभीरबीमारियोंकीवजहसेस्वास्थ्यकेआधारपरजमानतमिलीहै,लेकिनवेराजनीतिकरूपसेसक्रियहोरहेहैं।सीबीआइकोइसपरसंज्ञानलेनाचाहिए।उन्‍होंनेयहभीकहाकिचाराघोटालाकेपांचवेंमामलेमेंरांचीकोर्टकाफैसलाजल्‍दआनेवालाहै।

जबकिलालूयादवकेअधिवक्ताप्रभातकुमारकीमानेंतोलालूप्रसादयादवकोजमानतदेनेकेदौरानकोर्टनेकोईऐसीशर्तनहींलगाईथीकिवेकिसीराजनीतिकव्यक्तियोंसेनहींमिलेंगे।हालांकिउन्होंनेकहाकिमुलायमसिंहयादवउनकेसमधीहैंऔरउनकेबीमारहोनेकीसूचनापरलालूप्रसादयादवउनसेमिलनेगएथे।इसमेंकोईराजनीतिनहींहै।उन्होंनेबतायाकिसजाकीआधीअवधिजेलमेंपूरीकरनेपरहीझारखंडहाईकोर्टसेलालूयादवकोजमानतमिलीहै।यहकोर्टकापूर्वमेंनिर्धारितनियमकेतहतहुआहै।इसमेंलालूप्रसादकोकिसीबीमारीकेआधारपरजमानतनहींमिलीहै।हालांकिउनकेइलाजकेलिएराज्यस्तरसेएम्सभेजागयाथा।जहांउनकाइलाजचलरहाहै।जमानतकोरदकरानेकेलिएसीबीआईकीयाचिकादाखिलकरनेकेसवालपरलालूकेअधिवक्तादेवर्षिमंडलनेकहाकिसीबीआईकोऐसाकरनेकाअधिकारहै।

किसीकोयाचिकादाखिलकरनेसेरोकानहींजासकताहै।लेकिनसीबीआईकीओरसेहालफिलहालमेंअभीतककोईयाचिकादाखिलनहींकीगईहै।इससेपहलेसीबीआईनेदेवघरमामलेमेंलालूकोमिलीजमानतकेविरोधमेंसुप्रीमकोर्टमेंयाचिकादाखिलकीहै।जहांपरयाचिकाअभीभीलंबितहै।बतादेंकिलालूप्रसादयादवकोपांचमेंचारमामलोंमेंसजामिलचुकीहै।सभीचारमामलोंलालूप्रसादयादवकोहाईकोर्टसेजमानतमिलचुकीहै।इसबारजेलसेनिकलनेमेंउन्हेंकरीबढाईसाललगगएथे।

वहीं,डोरंडाकोषागारसेअवैधनिकासीकामामलेमेंअभीनिचलीअदालतमेंसुनवाईचलरहीहै।फिलहालइसमामलेमेंऑनलाइनसीबीआइकीओरसेबहसकीजारहीहै।कईबचावपक्षोंकाकहनाहैकिफिजिकलसुनवाईकेदौरानहीवेअपनापक्षरखेंगे।संभावनाहैकिलालूप्रसादकीओरसेऐसाआवेदनकोर्टमेंदियाजासकताहै,क्योंकिइसमामलेमेंसाक्ष्यकेरूपमेंकईहजारदस्तावेजहैं,जिन्हेंकोर्टकेसमक्षप्रस्तुतकरनाहोगा।यहकार्यफिजिकलकोर्टशुरूहोनेपरहीसंभवहै।